Business ideas: चुपके से इन मशीनों का सेटअप लगा कर कमा रहे लाखो, 1 मशीन 2 लाख तक कमा रही

Business ideas: दुनिया के कई हिस्सों में चावल ज़रूरी अनाज और किसानों की मुख्य फसल है। धान से सफेद चावल निकालने का काम सदियों से होता आ रहा है, इसमें खास मशीनें इस्तेमाल होती हैं जो धान को अलग-अलग करती हैं और उसका छिलका निकालती हैं। इस लेख में हम देखेंगे कि आमतौर पर मिलों में किन मशीनों का इस्तेमाल होता है और कैसे चावल का धंधा चलता है।

Also Read:

Business ideas: लेटेस्ट राइस मील

धान को चावल में बदलने का काम किसानों के लिए बेहद ज़रूरी है। इससे वो धान बेचकर कमाई कर सकते हैं। मिलिंग का मकसद ज़्यादा से ज़्यादा पूरा दाना वाला चावल निकालना होता है, जो बाज़ार में ज़्यादा दाम पर बिकता है। खाने वालों के लिए भी चावल मिल बड़ी अहमियत रखती है। मिल ही धान को खाने लायक बनाती है और उसकी ज़िंदगी बढ़ाती है।

पहले चावल मिलें साधारण तरीके से छिलका निकालती थीं, लेकिन अब ज़माने के साथ बदल गई हैं। आज की मिलें घर्षण का इस्तेमाल करके चावल को चमकाती हैं, जिससे वो ज़्यादा अच्छा दिखता है और ज़्यादा स्वादिष्ट बनता है। आधुनिक मिलों की बदौलत बड़े पैमाने पर चावल तैयार होता है, जो ज़्यादा अच्छा लगता है, ज़्यादा अच्छा लगता है और ज़्यादा अच्छा पकता है।

ये होती है मशीने

आमतौर पर चावल मिल में कई हिस्से होते हैं, जो धान को संभालते हैं, साफ करते हैं, छिलका निकालते हैं, चमकाते हैं और अलग-अलग करते हैं। ज़रूरी मशीनों में शामिल हैं:

  • धान साफ करने की मशीन: मिलिंग से पहले धान के दानों से कचरा दूर करती है
  • हस्कर: रबर के रोल इस्तेमाल करके छिलका हटाती है और भूरे रंग का चावल अलग करती है
  • धान सेपरेटर: छिलके से पहले धान के दानों को आकार के हिसाब से अलग करती है
  • व्हाइटनर: भूरे चावल को और चमकाकर उसका चोकर हटाती है
  • राइस ग्रेडर: लंबाई के हिसाब से पके हुए चावल के दानों को अलग करती है
  • राइस पॉलिशर: चावल को चमकाती है और ज़्यादा आकर्षक बनाती है
  • डिस्टोनर: बचे हुए पत्थरों या रेत को निकालती है
  • राइस ग्रेडर: टूटे हुए चावल के दानों को अलग करती है
  • पैकिंग मशीनें: चावल का वज़न लेकर उसे बोरियों में भरती हैं

इस तरह होता है मॉडल का चुनाव

छोटी या मध्यम आकार की चावल मिल लगाने वाले किसानों के लिए कई तैयार मॉडल मौजूद हैं, जिन्हें वो अपनी ज़रूरत के हिसाब से चुन सकते हैं:

  • 6A70 और 6N70: बहुमुखी मॉडल, 500-700 किलो/घंटा क्षमता, 3 फेज़ बिजली के लिए उपयुक्त
  • 670 विद ग्रेडर: बेहतर मॉडल, धान अलग करने की मशीन के साथ, ज़्यादा अशुद्धियों को हटाता है, क्षमता 500-700 किलो/घंटा
  • 600 सिंगल फेज़: बिजली का खर्च कम करने वाला मॉडल, 60 किलो/घंटा क्षमता, सिंगल फेज़ बिजली के लिए आदर्श
  • एकीकृत चावल और आटा मिल: एक ही मशीन पर चावल के साथ-साथ गेहूँ और चना जैसे अनाज पिसाई
  • मिनी राइस मिल: कॉम्पैक्ट मॉडल, 300 किलो/घंटा तक क्षमता, 3-5 एचपी मोटर का उपयोग

मॉडल चुनते समय क्षमता, बिजली की उपलब्धता और उत्पाद की ज़रूरतें महत्वपूर्ण हैं। चुंबकीय छांटनी, पत्थर निकालने और बोरी भरने जैसे अतिरिक्त उपकरण भी जोड़े जा सकते हैं।

इस तरह चलाये व्यापार

सिर्फ मशीनें खरीद लेने से ही काम नहीं चलता, चावल मिल चलाना मुनाफे का धंधा हो सकता है अगर कुछ बातों का ध्यान रखें:

  • अच्छे किस्म का धान: ज़्यादा चावल निकालने और बढ़िया क्वालिटी के लिए ज़रूरी है।
  • हु्नरमंद लोग: मशीन चलाने और रख-रखाव के लिए ज़रूरी है।
  • साफ-सुथरी प्रक्रिया: धान साफ से पिसाई से लेकर पैकिंग तक का सही क्रम।
  • क्वालिटी कंट्रोल: चावल की शुद्धता, टूटे हुए दानों की मात्रा, आदि चेक करना।
  • बायप्रोडक्ट्स का इस्तेमाल: चोकर और भूसी को मवेशियों के चारे के रूप में बेचना।
  • बाज़ार से जुड़ाव: पैक किया और ब्रांडेड चावल बेचने के लिए बाज़ार से संपर्क।
  • खर्चों पर नज़र: कच्चा माल, बिजली, मज़दूरी, रख-रखाव, आदि पर नियंत्रण।

अगर सही तरीके से चलाया जाए, तो चावल मिल ज़िंदाबाद कर सकती है! अच्छी मशीनों, कुशल प्रबंधन और मार्केटिंग से ज़्यादा मुनाफा कमाया जा सकता है।

निष्कर्ष

टेक्नोलॉजी अपनाने और नई प्रक्रियाओं से उत्पादन, क्वालिटी और लागत कम करने में काफी गुंजाइश है। बढ़ती आबादी के लिए चावल ज़रूरी है, ऐसे में चावल मिल का कारोबार कृषि क्षेत्र में हमेशा मज़बूत रहेगा।

क्या आपको यह आर्टिकल पसंद आया? क्या आपके पास कोई अन्य प्रश्न या सुझाव हैं?

Disclaimer

यह जो जानकारी हम आप तक पहुंचाते हैं, क्योंकि हमारा उद्देश्य आप तक योजनाओ की जानकारी, उनका स्टेटस एवं जारी लिस्ट को जान सकें एवं चेक कर पाए, लेकिन इस योजना से संबंधित अंतिम फैसला आपका ही अंतिम फैसला होगा, इसके लिए facttalk.in या हमारी कोई भी टीम का मेंबर जिम्मेदार नहीं होगा।

whatsapp group
WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
सभी सरकारी योजना देखेंयहाँ क्लिक करें
वर्तमान भर्तिया देखेंयहाँ क्लिक करें
मुखपृष्ठयहाँ क्लिक करें

नमस्कार साथियों मेरा नाम पुनीत है, Facttalk.in वेबसाइट के माध्यम से आप सभी को नवीनतम सरकारी योजनाओ, भर्तियों, रिजल्ट एवं अन्य के बारे में मेरे द्वारा जानकारी उपलब्ध करवाई जा रही है | आशा है आप सभी को हमारे आर्टिकल पसंद आ रहे होंगे, घन्यवाद

2 thoughts on “Business ideas: चुपके से इन मशीनों का सेटअप लगा कर कमा रहे लाखो, 1 मशीन 2 लाख तक कमा रही”

Leave a comment