Business ideas: 5Rs. किलो में बनता है और 15Rs. किलो में बिकता है, बाज़ार में जबरदस्त डिमांड, गाँव हो या शहर कही भी करो

Business ideas: आमतौर पर खेतों का बचा हुआ कचरा बेकार माना जाता है, जिसे फेंक दिया जाता है या जला दिया जाता है, जिससे हवा दूषित होती है। लेकिन सही तकनीक के साथ, इस बेकार को मूल्यवान ईंधन में बदला जा सकता है।

एक नई मशीन है briquetting machine, जो खेती के बचे हुए पदार्थों को दबाकर ऊर्जा से भरपूर ईंधन बनाती है, जिसे कोयले की जगह इस्तेमाल किया जा सकता है। इससे गाँव के उद्यमियों को कचरे से कमाई करने का शानदार मौका मिलता है, साथ ही पर्यावरण को भी फायदा होता है।

Also Read:

Briquetting Machine कैसे काम करती है?

यह मशीन एक पेच का इस्तेमाल करके खेती के कचरे को दबाकर, उसे गर्म करती है और एक छेद वाली ईंट जैसी आकृति में बदल देती है। कचरा मशीन में डाला जाता है, जहां एक गर्म करने वाला तत्व (600 डिग्री सेल्सियस) उसे घुमाता और दबाता है। गर्मी से कचरे में मौजूद लिग्नोसेल्यूलोज़ नामक पदार्थ चिपकने का काम करता है। मशीन का दबाव कचरे को ईंधन की ईंटों में बदल देता है, जो बिना धुंआ किए ज्यादा देर तक जलती हैं।

इस मशीन को चलाने के लिए ज्यादा बिजली की ज़रूरत नहीं होती, 30 HP का मोटर ही काफी है। एक व्यक्ति इसे आसानी से चला सकता है। इसके लिए बहुत जगह भी नहीं चाहिए, सिर्फ 30-35 वर्ग फुट ही काफी है। यही कारण है कि छोटे गाँव और समुदायों के उद्यमी आसानी से अपनी जगह पर briquetting unit लगा सकते हैं।

ऐसे बनता है कच्चा माल

कचरे को दबाने से पहले उसमें पानी की मात्रा सही होनी चाहिए, 8 से 12 प्रतिशत के बीच। अगर कचरा ज़्यादा गीला हो तो गर्म होने पर भाप निकलकर मशीन खराब हो सकती है। इसलिए briquetting unit के साथ लगा एक घूमने वाला सुखाने वाला यंत्र (rotary dryer) कचरे को गर्म हवा से सुखा देता है।

गोबर जैसा ज़्यादा गीला कचरा पहले निचोड़ने वाली मशीन (dewatering machine) में आंशिक रूप से सुखाया जा सकता है। सबसे अच्छे नतीजों के लिए कचरे के टुकड़े 3 से 6 मिलीमीटर के बीच होने चाहिए।

मुनाफा कमाने का धंधा

गाँवों में धान की भूसी, गन्ने का छत्ता (bagasse), लकड़ी की धूल या गोबर बहुत कम दाम में या मुफ्त में मिल जाते हैं। Briquetting machine चलाने का खर्च भी कम है, लगभग 3 रुपये प्रति किलो। अगर धान की भूसी 2 रुपये किलो मिले तो ईंधन की ईंट बनाने में करीब 5 रुपये प्रति किलो लगते हैं।

अगर आप इन्हें 15 रुपये किलो बेचते हैं तो हर किलो पर 10 रुपये का मुनाफा या 200% का फायदा होता है। एक औसत मशीन, जो हर घंटे 300-500 किलो ईंधन बनाती है, सालाना 50 लाख रुपये से भी ज्यादा का मुनाफा कमा सकती है। इससे साफ पता चलता है कि briquetting waste गाँवों के लिए मुनाफे का धंधा है।

कचरे से ईंधन बनाकर कमाई और पर्यावरण भी साफ़

खेतों या जानवरों के कचरे से बनीं ये ईंधन की ईंटें कोयले की जगह सीधे फैक्ट्रियों, भट्टों, खाने-पीने की चीज़ें बनाने वाली जगहों आदि में इस्तेमाल की जा सकती हैं। यह कोयले से ज्यादा देर जलती हैं और ज़्यादा गर्मी देती हैं। और सबसे अच्छी बात? ये धुआं नहीं छोड़तीं!

इससे हवा स्वच्छ रहती है, कोयले की खुदाई कम होती है और ज़मीन भी सुरक्षित रहती है। किसान अपना ही कचरा इस्तेमाल कर सकते हैं, कोयला खरीदने की ज़रूरत नहीं। कचरे का सही प्रबंधन करने से गलाने वाले कूड़े से मीथेन गैस कम निकलती है। चूंकि ईंधन बनाने में नई फसलें नहीं लगानी पड़तीं, इसलिए यह टिकाऊ ईंधन चक्र है।

सरकार की भूमिका

भले ही कचरे से ईंधन बनाना मुनाफे का और पर्यावरण के अनुकूल धंधा है, इसे देशभर में अपनाने के लिए शुरुआत में सरकार का सहयोग ज़रूरी है। मशीनों पर सब्सिडी या ईंधन पर न्यूनतम समर्थन मूल्य जैसी नीतियां इसे बढ़ावा देंगी।

राज्य बिजली बोर्ड थर्मल पावर स्टेशनों के पास ही बॉयलर की राख या फसलों के बचे हुए अंश से ईंधन बनाने के छोटे कारखाने लगा सकते हैं। शहरों के गीले कचरे को अलग करके ईंधन बनाने वाली जगहों तक पहुंचाना कचरे के बेहतर प्रबंधन में मदद करेगा।

निष्कर्ष

अंत में, खेती और शहरों के कचरे से ईंधन बनाना आर्थिक और पर्यावरणीय दोनों तरह से फायदेमंद है। सही सरकारी नीतियों के साथ, यह स्वच्छ तकनीक पूरे देश में कचरे को बहुमूल्य चीज़ में बदल सकती है।

Disclaimer

यह जो जानकारी हम आप तक पहुंचाते हैं, क्योंकि हमारा उद्देश्य आप तक योजनाओ की जानकारी, उनका स्टेटस एवं जारी लिस्ट को जान सकें एवं चेक कर पाए, लेकिन इस योजना से संबंधित अंतिम फैसला आपका ही अंतिम फैसला होगा, इसके लिए facttalk.in या हमारी कोई भी टीम का मेंबर जिम्मेदार नहीं होगा।

whatsapp group
WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
सभी सरकारी योजना देखेंयहाँ क्लिक करें
वर्तमान भर्तिया देखेंयहाँ क्लिक करें
मुखपृष्ठयहाँ क्लिक करें

नमस्कार साथियों मेरा नाम पुनीत है, Facttalk.in वेबसाइट के माध्यम से आप सभी को नवीनतम सरकारी योजनाओ, भर्तियों, रिजल्ट एवं अन्य के बारे में मेरे द्वारा जानकारी उपलब्ध करवाई जा रही है | आशा है आप सभी को हमारे आर्टिकल पसंद आ रहे होंगे, घन्यवाद

5 thoughts on “Business ideas: 5Rs. किलो में बनता है और 15Rs. किलो में बिकता है, बाज़ार में जबरदस्त डिमांड, गाँव हो या शहर कही भी करो”

Leave a comment